पाकिस्तानी की बिगड़ती आर्थिक दशा सुधारने की जिम्मेदारी अब सेना के हवाले, बाजवा की अमेरिकी कमांडर से द्विपक्षीय वार्ता

Story by  मलिक असगर हाशमी | Published by  [email protected] • 5 Months ago
पाकिस्तानी की बिगड़ती आर्थिक दशा सुधारने की जिम्मेदारी अब सेना के हवाले, बाजवा की अमेरिकी कमांडर से द्विपक्षीय वार्ता
आवाज द वॉयस /इस्लामाबाद 
 
पाकिस्तान की बिगड़ती आर्थिक दशा को संभालने की जिम्मेदारी अब सेना के हवाल कर दी गई है. पाक सेना प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा की हाल की गतिविधियों से तो यही लगता है.

इसी क्रम में पाकिस्तान के सेना प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा ने कमांडर यूएस सेंटकॉम जनरल माइकल एरिक कुरिल्ला से मुलाकात की और दोनों देशों के बीच सैन्य-से-सैन्य संबंधों और आर्थिक मुददों पर चर्चा की गई. पाकिस्तान की सैन्य मीडिया विंग ने यह जानकारी दी है.
 
जनरल बाजवा ने रावलपिंडी में जनरल हेड क्वार्टर (जीएचक्यू) में अमेरिकी कमांडर के साथ बैठक की, जिसके एक महीने से भी कम समय में दोनों अधिकारियों ने दोनों पक्षों के बीच सैन्य सहयोग से संबंधित मुद्दों पर टेलीफोन पर बातचीत की. जियो न्यूज ने बताया कि बैठक में आपसी हित, क्षेत्रीय सुरक्षा स्थिति, स्थिरता, रक्षा और सुरक्षा सहयोग के मामलों पर चर्चा हुई.
 
इंटर-सर्विसेज पब्लिक रिलेशंस (आईएसपीआर) ने कहा कि चर्चा में पाकिस्तान-अमेरिका सैन्य प्रशिक्षण विनिमय कार्यक्रम भी शामिल है.अमेरिकी कमांडर का यह दौरा उन खबरों के बीच हो रहा है जिनमें बाजवा के वाशिंगटन जाने की संभावना है.
 
डॉन अखबार की रिपोर्ट के अनुसार, चूंकि यात्रा की अभी तक आधिकारिक पुष्टि नहीं हुई है, इसलिए किसी भी पक्ष ने वार्ता के एजेंडे की घोषणा नहीं की है, जो जनरल बाजवा के वाशिंगटन में आयोजित होने की संभावना है.
 
पाकिस्तान के सेना प्रमुख ने हाल ही में देश में बिगड़ती आर्थिक स्थिति के बीच आर्थिक जुड़ाव को आगे बढ़ाने के लिए अमेरिकी नेतृत्व से मदद मांगी थी.बाजवा ने दक्षिण एशियाई देश को एक आसन्न आर्थिक आपदा से बचाने के लिए अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) से धन का शीघ्र वितरण हासिल करने में मदद के लिए अमेरिका से संपर्क किया था.
 
मीडिया रिपोर्टों में कहा गया है कि पाकिस्तान के प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ ने बाजवा को अमेरिकी अधिकारियों से बात करने और आईएमएफ फंड के जल्द वितरण के लिए अपने प्रभाव का इस्तेमाल करने के लिए राजी किया.
 
द न्यूज इंटरनेशनल ने सूत्रों के हवाले से बताया कि पाकिस्तानी प्रधानमंत्री और सेना प्रमुख बाजवा ने देश की अर्थव्यवस्था को संकट जैसी स्थिति से बचाने के लिए अन्य विकल्पों पर भी चर्चा की.
रिपोर्ट में कहा गया है कि बाजवा ने अमेरिकी उप विदेश मंत्री वेंडी शेरमेन को फोन किया और उनसे 1.2 अरब डॉलर की राशि के वितरण में तेजी लाने की अपील की.
 
पाकिस्तानी सेना प्रमुख का यह कदम ऐसे समय में आया है जब नकदी की कमी से जूझ रहा देश विदेशी भंडार की कमी के कारण गहरी आर्थिक मंदी की चपेट में है.