समी और वत्सलाः अब तो मजहब कोई ऐसा भी चलाया जाए,जिस में इंसान को इंसान बनाया जाए