और जेहरा ‘एकलव्य’ के रास्ते पर चल पड़ीं