हज करने के क्या हैं शिष्टाचार

Story by  आवाज़ द वॉयस | Published by  [email protected] | Date 12-06-2024
What are the etiquettes of performing Hajj
What are the etiquettes of performing Hajj

 

ईमान सकीना

“और अल्लाह के लिए हज और उमराह पूरा करो.” (सूरह अल-बकरा 2ः196)

हज इबादत के सबसे अच्छे कामों में से एक है और इस्लाम के स्तंभों में से एक है. हज करना सिर्फ रस्मों का पालन करना नहीं है., यह एक गहरी आध्यात्मिक यात्रा है, जिसमें तीर्थयात्रा को अत्यंत सम्मान, गरिमा और भक्ति के साथ पूरा करने के लिए शिष्टाचार के एक सेट का पालन करने की आवश्यकता होती है. ये शिष्टाचार अनुष्ठानों की पवित्रता को बनाए रखने और तीर्थयात्री के आध्यात्मिक अनुभव को बढ़ाने में मदद करते हैं. यहाँ हज करने के शिष्टाचार पर एक व्यापक मार्गदर्शिका दी गई है.

ईमानदारी और इरादा (नीयत)

  • शुद्ध इरादाः अपने हज की शुरुआत सिर्फ अल्लाह की खातिर एक सच्चे इरादे से करें. सुनिश्चित करें कि आपका उद्देश्य उसकी खुशी और क्षमा प्राप्त करना है.
  • मानसिक तैयारीः हज के आध्यात्मिक महत्व पर चिंतन करें और यात्रा के लिए खुद को मानसिक रूप से तैयार करें.

ज्ञान और समझ

  • खुद को शिक्षित करेंः हज की रस्मों और उनके महत्व के बारे में जानें. हज सेमिनार में भाग लें, किताबें पढ़ें और जानकार स्रोतों से मार्गदर्शन लें.
  • सुन्नत का पालन करेंः सुन्नत (पैगंबर मुहम्मद की प्रथाओं) के अनुसार रस्में निभाएँ.

आध्यात्मिक तैयारी

  • पश्चाताप: पिछले पापों और गलत कामों के लिए अल्लाह से माफी माँगें. अपने दिल और इरादों को शुद्ध करें.
  • दुआ और जिक्र: अपनी यात्रा के दौरान लगातार दुआ (दुआ) और अल्लाह का स्मरण (जिक्र) करें.

शारीरिक और भावनात्मक तत्परता

  • स्वास्थ्य और तंदुरुस्तीः सुनिश्चित करें कि आप हज में शामिल कठिन गतिविधियों को संभालने के लिए शारीरिक रूप से फिट हैं. नियमित व्यायाम और स्वस्थ आहार मदद कर सकते हैं.
  • धैर्य और सहनशीलताः धैर्य, सहनशीलता और विनम्रता विकसित करें. बड़ी भीड़ और लंबे इंतजार जैसी चुनौतियों के लिए तैयार रहें.

उचित आचरण और व्यवहार

  • दूसरों के प्रति सम्मानः साथी तीर्थयात्रियों के प्रति विचारशील रहें. दूसरों को धक्का देने, धकेलने या असुविधा पहुँचाने से बचें.
  • शांति और संयमः तनावपूर्ण परिस्थितियों में भी शांत और संयमित व्यवहार बनाए रखें.
  • स्वच्छताः खुद को और अपने आस-पास को साफ रखें. कचरे का उचित तरीके से निपटान करें और स्वच्छता बनाए रखें.

ड्रेस कोड और दिखावट

  • इहराम पोशाकः पुरुषों को इहराम के दो सफेद सीमलेस कपड़े पहनने चाहिए, और महिलाओं को शरीर को ढकने वाले शालीन, सरल कपड़े पहनने चाहिए.
  • सादगीः दिखावटी कपड़े और एक्सेसरीज से बचें. अपने दिखावे में सादगी और विनम्रता अपनाएँ.

पवित्र स्थानों के प्रति सम्मान

  • पवित्र स्थलों के प्रति श्रद्धाः काबा, मस्जिद अल-हरम, मीना, अराफात और मुजदलिफा सहित पवित्र स्थलों के प्रति गहरा सम्मान दिखाएँ.
  • विघ्न से बचेंः पवित्र क्षेत्रों में ऊँची आवाज में बातचीत या विघटनकारी व्यवहार न करें.

उचित अनुष्ठान पालन

  • तवाफ और सईः ध्यान और भक्ति के साथ तवाफ (काबा की परिक्रमा) और सई (सफा और मरवा के बीच चलना) करें. इन कृत्यों के दौरान प्रार्थना और दुआएँ पढ़ें.
  • जमरात को पत्थर मारनाः पत्थर मारने की रस्म करते समय, दूसरों को नुकसान पहुँचाए बिना शांति और सुरक्षित तरीके से ऐसा करने का लक्ष्य रखें.

साथी तीर्थयात्रियों के साथ बातचीत

  • भाईचारा और एकताः विभिन्न पृष्ठभूमि के मुसलमानों के बीच भाईचारे और एकता की भावना को अपनाएँ.
  • समर्थन और मददः जरूरत पड़ने पर साथी तीर्थयात्रियों की सहायता करें. जहाँ भी संभव हो, मदद और सहायता प्रदान करें.

पाप और अवज्ञा से बचना

  • पाप से सावधान रहेंः झूठ बोलना, चुगली करना और बहस करना जैसे पापपूर्ण व्यवहार और इस्लाम के सिद्धांतों के विपरीत काम करने से बचें.
  • ईमानदारी बनाए रखेंः अपनी तीर्थयात्रा के दौरान ईमानदारी, ईमानदारी और धार्मिकता बनाए रखें.

कृतज्ञता और विनम्रता

  • कृतज्ञता: आपको हज करने का अवसर देने के लिए अल्लाह का आभार व्यक्त करें. यात्रा के आशीर्वाद और सबक की सराहना करें.
  • विनम्रताः विनम्र रहें और गर्व या अहंकार से बचें. एक बड़े उम्मा (समुदाय) का हिस्सा होने के महत्व को पहचानें.

हज के बाद का आचरण

  • निरंतर धर्मनिष्ठताः अपने दैनिक जीवन में हज के दौरान किए गए आध्यात्मिक लाभ और सकारात्मक बदलावों को बनाए रखने का प्रयास करें.
  • अपना अनुभव साझा करेंः दूसरों को प्रेरित करने के लिए अपने हज के अनुभव और सीखे गए सबक को परिवार और दोस्तों के साथ साझा करें.

इन शिष्टाचारों का पालन करना सुनिश्चित करता है कि हज यात्रा न केवल एक धार्मिक कर्तव्य की पूर्ति है, बल्कि एक परिवर्तनकारी आध्यात्मिक यात्रा भी है. ईमानदारी, सम्मान और उचित आचरण बनाए रखने से, तीर्थयात्री हज के आध्यात्मिक लाभों को अधिकतम कर सकते हैं और इस गहन इस्लामी अभ्यास की समग्र पवित्रता और सद्भाव में योगदान दे सकते हैं.