सुबह-ए-बनारस: गंगा में उतर ठुमरी गावत निषाद, ज्ञानवापी पर बोले- 'इतिहास रहे कायम'