अनंतनाग मुठभेड़ः आतंकवादियों का पता लगाने को ड्रोन और क्वाडकॉप्टर का इस्तेमाल

Story by  एटीवी | Published by  [email protected] | Date 15-09-2023
Anantnag encounter
Anantnag encounter

 

अनंतनाग. अनंतनाग जिले के कोकेरनाग इलाके में सेना और जम्मू-कश्मीर पुलिस के सुरक्षाकर्मियों की एक संयुक्त टीम और आतंकवादियों के बीच चल रही गोलीबारी लगातार तीसरे दिन में प्रवेश कर गई. बंदूकधारियों का पता लगाने और उन्हें मार गिराने के लिए शुक्रवार को ड्रोन और क्वाडकॉप्टर को सेवा में लगाया गया.

अधिकारियों के मुताबिक, बुधवार को शुरू हुए ऑपरेशन में शामिल सुरक्षाकर्मियों को आतंकवादियों का पता लगाने के लिए चल रहे प्रयासों में क्वाडकॉप्टर और ड्रोन से मदद मिल रही है.

अनंतनाग जिले में चल रही गोलीबारी में राष्ट्रीय राइफल्स की त्वरित प्रतिक्रिया टीम (क्यूआरटी) की कमान संभाल रहे सेना के एक कर्नल की जान चली गई. सेना के एक मेजर और जम्मू-कश्मीर पुलिस के एक उपाधीक्षक भी कोकेरनाग क्षेत्र में दुश्मन की गोलीबारी में शहीद हो गए. मारे गए वरिष्ठ सैन्य अधिकारियों और डीएसपी की पहचान कर्नल मनप्रीत सिंह, मेजर आशीष धोनक और हुमायूं भट के रूप में की गई. इसके अलावा आज एक अन्य सैनिक की मृत्यु का समाचार है.

मेजर आशीष ढोंचक का पार्थिव शरीर शुक्रवार को उनके पानीपत स्थित आवास पर लाया गया. बुधवार की शाम जैसे ही उनकी मौत की खबर स्थानीय लोगों तक पहुंची तो उनके पैतृक गांव में मातम छा गया. डीएसपी भट्ट का अंतिम संस्कार बुधवार शाम को बडगाम में किया गया.

जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल मनोज सिन्हा ने मुठभेड़ में अधिकारियों की मौत पर दुख व्यक्त किया, साथ ही बुधवार को बडगाम में मारे गए डीएसपी को श्रद्धांजलि दी.

एक अलग मुठभेड़ में, मंगलवार को जम्मू-कश्मीर के राजौरी के नरला इलाके में सुरक्षा बलों ने दो आतंकवादियों को मार गिराया. अधिकारियों के अनुसार, बुधवार शाम तक चली मुठभेड़ के दौरान सुरक्षा बलों ने कहा कि उन्होंने तलाशी के दौरान पाकिस्तान के निशान वाली दवाइयों सहित युद्ध जैसे सामान बरामद किए हैं.

 

ये भी पढ़ें : इस्लाम में शुकराना का अभ्यास कैसे करें?



Tazia in Muharram
इतिहास-संस्कृति
  Muharram
इतिहास-संस्कृति
Battle of Karbala
इतिहास-संस्कृति