मानव सेवा से बड़ा कोई मजहब नहीं: मो. असीम