न्यूजीलैंडः पीएम जैसिंडा ने आतंकवाद और हिंसक उग्रवाद पर की चर्चा

Story by  राकेश चौरासिया | Published by  [email protected] • 1 Years ago
जैसिंडा अर्डन

वेलिंगटन. न्यूजीलैंड की प्रधानमंत्री जैसिंडा अर्डन ने मंगलवार को आतंकवाद और हिंसक उग्रवाद का मुकाबला करने के लिए देश की पहली बैठक की शुरूआत की, जो अगले दो दिनों में क्राइस्टचर्च में हो रही है.

अर्डन ने मीडिया को बताया, “शांति से एक देश की बैठक में यह देखा जाएगा कि हम सभी अपने देश को अधिक समावेशी और सुरक्षित बनाने में कैसे योगदान दे सकते हैं.”

यह बैठक हर साल आयोजित की जाएगी, जिसमें कट्टरपंथ पर सार्वजनिक बातचीत, समझ और शोध को बढ़ावा दिया जाएगा.

उन्होंने कहा कि यह नफरत से प्रेरित चरमपंथी विचारधाराओं को चुनौती देने के तरीकों पर गौर करेगी और आतंकवाद और हिंसक उग्रवाद के मुद्दों को संबोधित करने के लिए प्राथमिकताओं पर चर्चा करेगी.

प्रधानमंत्री ने कहा, “यह उद्घाटन हुई (बैठक) समुदाय, नागरिक समाज, शिक्षाविदों, निजी क्षेत्र और सरकार को सुनने, साझा करने और सीखने, ज्ञान और अनुभव दोनों को एक साथ लाती है.”

15 मार्च, 2019 को न्यूजीलैंड ने अपने सबसे भयानक आतंकवादी हमलों में से एक देखा, जब एक बंदूकधारी ने क्राइस्टचर्च में दो मस्जिदों में 51 लोगों की हत्या कर दी.

हमलावर, ऑस्ट्रेलियाई स्व-घोषित श्वेत वर्चस्ववादी ब्रेंटन टैरंट, को बिना पैरोल के जेल में आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई है, यह सजा पाने वाले न्यूजीलैंड के इतिहास में पहले व्यक्ति हैं.

उनकी सजा ने न्यूजीलैंड के इतिहास में पहली आतंकवाद की सजा को चिह्न्ति किया.

नरसंहार ने न्यूजीलैंड को अपने बंदूक कानूनों में सुधार करने के लिए भी प्रेरित किया.