पहला वनडे : बांग्लोदश ने भारत को एक विकेट से हराया, सीरीज में बनाई 1-0 की बढ़त

Story by  एटीवी | Published by  [email protected] • 1 Months ago
पहला वनडे : बांग्लोदश ने भारत को एक विकेट से हराया, सीरीज में बनाई 1-0 की बढ़त

ढाका.

मेहदी हसन मिराज (38 नाबाद) और मुस्ताफिजुर रहमान (10 नाबाद) ने शेर-ए-बांग्ला नेशनल क्रिकेट स्टेडियम (एसबीएनसीएस) में भारत को झटका देते हुए 41 गेंदों पर 51 रनों की अटूट अंतिम विकेट की साझेदारी की और बांग्लादेश को एक विकेट से जीत दिलाने में मदद की.

यह एक रोमांचक मैच रहा। शाकिब अल हसन के पंचा और ईबादत हुसैन के चार विकेटों के बाद बांग्लादेश 187 रनों के लक्ष्य का पीछा करने में कामयाब रहा, जिसने भारत को 41.2 ओवरों में 186 रनों पर समेट दिया.

लेकिन मोहम्मद सिराज और वाशिंगटन सुंदर की अगुवाई में भारतीय गेंदबाजों ने अच्छा प्रदर्शन किया और बांग्लादेश 39.3 ओवर में 95/3 से 136/9 तक कर दिया था.

मेजबान टीम भी एक समय संकट में थी. परिणाम एक पूर्व निष्कर्ष लग रहा था. लेकिन मेहदी ने शानदार पारी खेली और 41वें ओवर में कुलदीप सेन की गेंदों में लगातार दो छक्के लगाए.

अगले ओवर में किस्मत ने उनका साथ दिया, क्योंकि 15 रन पर के एल राहुल ने शार्दुल ठाकुर की गेंद पर उनका कैच छोड़ दिया और अगली ही गेंद पर सुंदर थर्ड मैन पर कैच के लिए नहीं गए.

44वें ओवर में दीपक चाहर के आने से भारत की किस्मत नहीं बदली, क्योंकि महेदी ने कीपर को छकाया और एक के बाद एक बाउंड्री लगाई. भारत ने आखिरी दो गेंदों में क्षेत्ररक्षण में चूक की थी, क्योंकि उन्होंने एक अतिरिक्त रन देकर इसे दो में तब्दिल कराया और डीप पर सुंदर द्वारा गलत फील्डिंग करने से मेहदी को एक चौका मिला.

दूसरी तरफ मेहदी का साथ दे रहे मुस्तफिजुर ने ठाकुर को 45वें ओवर में फाइन लेग के माध्यम से चौका लगाया, जिससे जीत का समीकरण 10 रन पर आ गया.

एक नो-बॉल के बाद मुस्तफिजुर ने सिंगल लेकर मेहदी को स्ट्राइक दिया. फिर उन्होंने ओवर की आखिरी गेंद पर कवर के माध्यम से चौका लगाकर बांग्लादेश को एक अविस्मरणीय जीत दिलाई. वह मुस्तफिजुर (10) के साथ 38 रन बनाकर नाबाद रहे.

इससे पहले, बांग्लादेश को पहले ही ओवर में झटका लगा. सलामी बल्लेबाज नजमुल हुसैन शंटो को चाहर ने बिना खाता खोले ही पवेलियन भेज दिय. पहले पावर-प्ले के अंतिम ओवर में, सिराज को उनकी दृढ़ता के लिए पुरस्कृत किया गया, क्योंकि अनामुल हक को आउट कर दिया.

भारत ने कप्तान लिटन दास और शाकिब पर अधिक दबाव डाला, लेकिन विकेट हासिल करने के लिए थोड़े और भाग्य की जरूरत थी. लिटन ने आखिरकार 14वें ओवर में कुलदीप की शार्ट गेंदों पर चौका और छक्का जड़ा.

शाहबाज अहमद को बाउंड्री के लिए स्लॉग-स्वीप करने के बाद दास ने 20वें ओवर में सुंदर की गेंद पर फ्लिक करने का प्रयास किया, लेकिन राहुल ने उन्हें उनका कैच लपट लिया.

शाकिब और मुश्फिकुर रहीम ने स्ट्राइक रोटेशन पर भरोसा किया, लेकिन उन्होंने 24 वें ओवर में सुंदर की फ्लाइट की गेंद पर एक ड्राइव को गलत तरीके से चलाया और 48 रन की साझेदारी को समाप्त करते हुए कोहली को कवर पर कैच दे बैठे.

रहीम और महमूदुल्लाह ने पांचवें विकेट के लिए 69 गेंदों पर 33 रन की साझेदारी करने के लिए स्ट्राइक रोटेट की. लेकिन एक सुसंगत शार्दुल ठाकुर को उसका इनाम तब मिला जब उन्होंने महमुदुल्लाह को एलबीडब्ल्यू आउट किया, जबकि सिराज को वापस गेंदबाजी के लिए बुलाया गया, तब उन्होंने रहीम को बोल्ड कर दिया.

सेन ने 39वें ओवर में वापसी करते हुए अफीफ हुसैन को अपने पहले अंतर्राष्ट्रीय विकेट के लिए थर्ड मैन पर कैच कराया. ओवर की पांचवीं गेंद पर, उनका एक और विकेट था, जब ईबादत ने लेग-साइड के माध्यम से क्लिप करने की कोशिश में हिट-विकेट आउट हो गए.

इसके बाद, सिराज ने हसन महमूद को चलता किया, तो भारतीय जीत आसान लग रही थी। लेकिन मेहदी और मुस्तफिजुर ने बांग्लादेश के लिए एक शानदार जीत दर्ज की.