पीरजादा तजामुलः कश्मीर के पहले मेल बेली डांसर, इश्क ने दिया ये मुकाम

Story by  राकेश चौरासिया | Published by  [email protected] • 2 Months ago
पीरजादा तजामुल

श्रीनगर.

परंपरागत रूप से बेली डांस को एक प्रतिभा और कौशल माना जाता है जो महिलाओं के पास है. हालाँकि, पीरजादा तजामुल ने कांच की छत को तोड़ दिया है और अब कश्मीर के पहले पुरुष बेली डांसर बन गए हैं. उत्तरी कश्मीर के कुपवाड़ा जिले के रहने वाले तजामुल को बचपन से ही डांस और म्यूजिक का शौक रहा है. प्रारंभ में, उनके माता-पिता ने बेली डांसिंग में भविष्य बनाने के उनके जुनून और सपने का विरोध किया. उन्हें अपने और अपने समुदाय के लोगों के क्रोध का भी सामना करना पड़ा, जो लगातार उनके करियर की पसंद की आलोचना करते थे.

तजामुल अब 24 साल के हैं. उन्होंने बताया कि अपने जुनून को आगे बढ़ाने के कारण उनके पिता ने कई मौकों पर उनकी पिटाई की थी. उन्हें जान से मारने की धमकी भी मिलती थी. उन्होंने कहा, ‘‘मैं हर दिन अपने पिता से मारपीट सहता था, क्योंकि बेली डांस की अनुमति नहीं थी. मुझे लोगों से गालियां भी सुननी पड़ती थीं. मुझे हिजड़ा कहा जाता था और कई बार जान से मारने की धमकी भी मिलती थी. उस समय मुझे बहुत अजीब लगता था और बुरा और मैं रोया भी. और, मुझे नहीं पता था कि मैं अपने जुनून के साथ आगे बढ़ सकता हूं या नहीं. लेकिन समय बीतने के साथ, सब कुछ सुधरने लगा...’’

एक पुरानी कहावत है, जो यहाँ पूरी तरह से फिट बैठती है - ‘धैर्य का मतलब निष्क्रिय रूप से सहना नहीं है. इसका मतलब है कि प्रक्रिया के अंतिम परिणाम पर भरोसा करने के लिए दूरदर्शी होना.’ और साथ ही, एक चुटकी विनम्रता, आत्मविश्वास और दृढ़ संकल्प एक लंबा रास्ता तय करने में मदद करता है! और ठीक इसी बात ने तजामुल को उन अत्याचारों से उबरने में मदद की, जो उन पर किए गए थे. वह इन सबसे ऊपर उठे और उन्होंने इसे पूरी शिष्टता के साथ किया.

तजामुल का कहना है कि बेली डांस करने का विचार शुरू में उनके पास नहीं आया था, बल्कि यह किसी ऐसे व्यक्ति का सपना था, जिसे वह प्यार करते थे. वो बताते हैं, ‘‘कई साल पहले मुझे एक लड़की से प्यार हो गया था. अब वह इस दुनिया में नहीं है. वह एक बेली डांसर बनना चाहती थी, लेकिन उसके माता-पिता ने उसे अनुमति नहीं दी. मैंने शुरू में उसकी इच्छा को पूरा करने के लिए डांस फॉर्म सीखा लेकिन अब मेरे पास है इसमें करियर बनाया.’’

उनकी प्रसिद्धि का दावा श्रीनगर में एक निजी कॉलेज के कार्यक्रम में बेली डांस करते हुए उनका एक वीडियो था, जो 2017 में वायरल हुआ था और तब से उन्होंने पीछे मुड़कर नहीं देखा है! तजामुल एक नर्सिंग छात्र भी हैं, लेकिन वह अपना ज्यादातर समय डांस करने में व्यतीत करते हैं. खैर, दिल जो चाहता है वही चाहता है! सही?

स्टेज शो के अलावा, वह जम्मू में एक डांस अकादमी में बच्चों को कुछ बॉलीवुड डांस फॉर्म के साथ-साथ बेली डांस भी सिखाते हैं. जब हमने उनसे बात की, तो उन्होंने यह भी बताया कि वह नोरा फतेही और लोकप्रिय डांसर सपना चौधरी को अपना आदर्श मानते हैं. वह सपना की तरह ही जीवन में इसे बड़ा बनाना चाहता है.

खैर, तजामुल का अब तक का सफर काफी मुश्किल भरा, कांटों भरा रहा है. लेकिन बिना कांटों के गुलाब नहीं होते! निचोड़ ‘चलते रहना’ है. कुछ नहीं तो, तजामुल ने सभी को एक बहुत ही महत्वपूर्ण जीवन सबक दिया है कि सभी के लिए आशा है, आपको बस इसे सही जगह पर देखना है और जब आप ऐसा करते हैं, तो भविष्य के बारे में आशावादी रहें, और अपना सौ प्रतिशत दें.