देर तक बैठना उतना ही खतरनाक है जितना एक दिन में सिगरेट का एक पैकेट खत्म करना