शहंशाह सूरी खान ने महज 5000 रुपए में बनाई ‘ईरीई ए टेरर ऑफ जोम्बी वायरस’, मिलेगा जिफ अवार्ड

Story by  आवाज़ द वॉयस | Published by  [email protected] • 24 d ago
  'Eerie A Terror of Zombie Virus'
'Eerie A Terror of Zombie Virus'

 

फरहान इसराइली

जयपुर. राजधानी में जयपुर इंटरेनशनल फिल्म फेस्टिवल (जिफ) का 16वां संस्करण 9 फरवरी से 13 फरवरी 2024 तक आयनॉक्स जीटी सेन्ट्रल, जयपुर में आयोजित किया जा रहा है. जिफ 2024 के लिए 67 देशों की 2971 फिल्मों में से 329 फिल्मों का चयन हुआ है, जिसमें 23 अवॉर्डेड नेशनल और इंटरेनशनल फिल्में भी शामिल है. टोंक के युवा कलाकार शहंशाह सूरी द्वारा बनाई गई मूवी ‘ईरीई ए टेरर ऑफ जोम्बी वायरस’ को जयपुर फिल्म फेस्टिवल में सम्मानित किया जाएगा.

टोंक के युवा कलाकारों द्वारा कोरोना की तरह एक जानलेवा वायरस को लेकर बनाई गई 2 घंटे 8 मिनट की फिल्म को बड़ा अवार्ड मिलेगा. बहुत ही कम संसाधन के बावजूद तैयार की गई इस फिल्म को शुक्रवार से शुरु हुए जयपुर फिल्म फेस्टिवल में चयनित किया गया है. अब इसे अवार्ड दिए जाने वाले फिल्मों में भी शामिल किया गया है.

https://www.hindi.awazthevoice.in/upload/news/170756494622_Shahenshah_Suri_Khan_made_the_film_'Eerie_A_Terror_of_Zombie_Virus'_in_just_Rs_5000,_will_get_GIF_Award_3.jpg

इस फेस्टिवल के लिए कई देशों की 329 फिल्मों को शामिल किया गया है, जिनमें हिंदी, अंग्रेजी सहित कई भाषाओं की फिल्में शामिल है. इनमें 64 फिल्मों को अवार्ड के लिए चयनित किया गया. इसमें ‘ईरीई ए टेरर ऑफ जोम्बी वायरस’ फिल्म भी शामिल है. इसकी घोषणा से टोंक के युवा कलाकारों में जोरदार उत्साह है.

शुक्रवार से जयपुर में शुरु हुए इस 3 दिवसीय फेस्टिवल में शामिल होने के लिए सभी कलाकार जयपुर पहुंचे. यह फिल्म यहां के कलाकारों ने मशहूर फिल्म अभिनेता इरफान खान से प्रेरित होकर बनाई है.

21 वर्षीय फिल्म कलाकार शहंशाह खान सूरी ने अपने साथियों के सहयोग से 2 घंटे 8 मिनट की बड़े पर्दे की फिल्म महज 5 हजार रुपए के खर्च पर तैयार की है, जिसमें युवा कलाकारों ने अथक परिश्रम कर टोंक जिले का मान बढाया है.

https://www.hindi.awazthevoice.in/upload/news/170756496622_Shahenshah_Suri_Khan_made_the_film_'Eerie_A_Terror_of_Zombie_Virus'_in_just_Rs_5000,_will_get_GIF_Award_4.jpg

शहंशाह सूरी खान का कहना है कि ये फिल्म वायरस पर आधारित है. इसमें एक वायरस तबाही मचा रहा होता है, उसको रोकने के लिए भी वैक्सीन तैयार कर एक साइंटिस्ट बचाने का काम करता है. दोनों के बीच की जंग के साथ ही इस फिल्म में एकता-भाईचारे का संदेश दिया गया है.

सूरी ने बताया कि उनका वैसे तो आस्कर जीतने का सपना है, लेकिन उनका काम अच्छी और बेहतर फिल्म का निर्माण करके, लोगों को रचानात्मक दिशा की ओर लाना है. अब तक वो कई धारावाहिक कुछ कुछ फिल्मों में भी एक्टिंग कर चुके है.

फिल्म अभिनेता शाहरुख खान की ‘जवान’ फिल्म में भी उन्होंने फोटोग्राफर का छोटा रोल किया है. वो एक्टिंग की दुिनया में फिल्म अभिनेता इरफान खान से प्रभावित होकर ही आये हैं. हालांकि वो इस क्षेत्र में अपनी एक्टिंग और अपनी अलग ही पहचान कायम करना चाहते है.

इसके लिए वो निरंतर प्रयास भी कर रहे है. साथ ही उनका सपना है कि टोंक की वादियों में भी बॉलीवुड फिल्मों की शूटिंग हो. यहां के पर्यटन क्षेत्र को भी फिल्मों के माध्यम से बढावा दिलाया जाए. जो फिल्म उन्होंने बनाई है, वो टोंक में बनी बड़े पर्दे की पहली फिल्म है, जो टोंक में ही फिल्माई गई है

टोंक के उभरते कलाकारों ने बनाई ये फिल्म

‘ईरीई ए टेरर ऑफ जोम्बी वायरस’ फिल्म के डायरेक्टर, लीड हीरो, राइटर, प्रोड्यूसर, एडिटर शहंशाह सूरी खान ही है. इसमें कलाकार जूनियर कलाकार सोहेल सूरी, नाजिश खान, कासिम खान, नायब खान सूरी, अनुराधा धुंडिया, बिट्टू वर्मा, आकिब खान, अयाज खान, जवाद हबीब, सलमान रशीद, गुफरान मलिक, जीतेंद्र वर्मा, तुबा खान सूरी, रवि धानका, मोहम्मद अली कौसर, अंसार खान, फैसल अंसारी, अकबर खान, शादाब खान, अप्पी चाचा, हस्सान खान, सुभान खान आदि ने काम किया है.

 

ये भी पढ़ें :  रमजान चौधरी : मेवात की लड़कियां का दक्षिण भारत के शिक्षण संस्थानों में दाखिले की मजबूत कड़ी
ये भी पढ़ें :  अरीबा खान बोलीं, ‘समाज सेवा हमारा धर्म’
ये भी पढ़ें :  हिंदु-मुस्लिम संबंधों पर प्रमाणिक लेखन करने वाला कथाकार शानी का स्मृति दिवस