आईसीसी ट्रॉफी असली या नकली ?

Story by  आवाज़ द वॉयस | Published by  [email protected] | Date 07-07-2024
ICC trophy real or fake?
ICC trophy real or fake?

 

नौशाद अख्तर

टी20 वर्ल्ड कप 2024 जीतने के बाद भारतीय क्रिकेट टीम वेस्टइंडीज से अपने देश लौट आई है.विश्व कप के अंत में तूफान के कारण बारबाडोस में फंसी भारतीय टीम गुरुवार सुबह दिल्ली हवाई अड्डे पर पहुंची, जहां उनका भव्य स्वागत किया गया.

दिल्ली पहुंचने के बाद टीम को एक होटल में स्थानांतरित कर दिया गया, जिसके बाद  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने टीम के सम्मान में नाश्ते की मेजबानी की.गुरुवार शाम को भारतीय टीम अपनी विजय परेड के लिए दिल्ली से मुंबई एयरपोर्ट पहुंची, जहां उनके विमान को वॉटर कैनन की सलामी दी गई.

विजय परेड के लिए एक विशेष ओपन-टॉप बस की व्यवस्था की गई थी जिसमें बैठकर भारतीय टीम वानखेड़े स्टेडियम पहुंची थी.परेड के दौरान टीम की बस मुंबई के मरीन ड्राइव से गुजरी जहां लाखों लोगों ने उनका स्वागत किया. इस मौके पर बस में भारतीय खिलाड़ी ट्रॉफी पकड़कर जश्न मनाते रहे.

चैंपियन टीम को दी जाने वाली ट्रॉफी डुप्लीकेट है?

11 साल के लंबे इंतजार के बाद भारतीय क्रिकेट टीम आईसीसी ट्रॉफी घर लाने में कामयाब रही है, लेकिन सोशल मीडिया पर कई यूजर्स इस बात को लेकर उत्सुक हैं कि भारतीय टीम द्वारा घर लाई गई चांदी की ट्रॉफी असली है या नकली?

सच तो ये है कि भारतीय टीम जो ट्रॉफी अपने साथ लेकर आई है वो असली आईसीसी ट्रॉफी नहीं बल्कि उसकी प्रतिकृति है. ऐसा सिर्फ भारत के साथ ही नहीं बल्कि हर आईसीसी चैंपियन टीम के साथ होता है. शुरुआत से ही ऐसा होता आ रहा है.

ऐसा इसलिए है क्योंकि अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट परिषद अपने टूर्नामेंट की मूल ट्रॉफी केवल मैच के बाद के समारोहों और फोटोशूट के लिए प्रदान करती है, जिसके बाद मूल ट्रॉफी वापस ले ली जाती है.

उसी ट्रॉफी की एक प्रति टीम को घर ले जाने के लिए भेज दी जाती है.प्रतिकृति ट्रॉफी बिल्कुल मूल ट्रॉफी की तरह बनाई गई है और इसे संबंधित टूर्नामेंट के लोगो के साथ डिजाइन किया गया है.
आईसीसी टूर्नामेंट जीतने वाली प्रत्येक टीम एक प्रतिकृति ट्रॉफी के साथ घर लौटती है, जबकि असली ट्रॉफी आईसीसी के दुबई मुख्यालय में रखी जाती है.

टीम को ICC ट्रॉफी रखने की अनुमति क्यों नहीं है?

ऐसा सिर्फ क्रिकेट में ही नहीं बल्कि दुनिया के अन्य प्रमुख खेल टूर्नामेंटों में भी होता है जहां जीतने वाली टीम को असली ट्रॉफी अपने पास रखने की इजाजत नहीं होती है.उदाहरण के लिए, फुटबॉल के फीफा विश्व कप में भी विजेता टीम को 20 मिलियन डॉलर की ट्रॉफी प्रदान नहीं की जाती है.

इसका एक बड़ा कारण है और वह है सुरक्षा संबंधी चिंताएँ. यही कारण है कि ट्रॉफियां टूर्नामेंट तक ही सीमित हैं और टूर्नामेंट से पहले विश्व दौरे पर भेजी जाती हैं.जहाँ तक विजेता टीम के खिलाड़ियों की बात है, उन्हें ऐसे पदक दिये जाते हैं जो मौलिक होते हैं और उनकी संपत्ति बने रहते हैं.

इंटरनेशनल क्रिकेट काउंसिल ने 2007 में टी20 वर्ल्ड कप की शुरुआत की थी, उससे पहले वनडे क्रिकेट वर्ल्ड कप खेला जाता था.क्रिकेट की दुनिया में वर्ल्ड कप की शुरुआत 1975 में इंग्लैंड ने की थी.

उस समय, विश्व कप की मेजबानी करने के लिए संसाधनों वाला इंग्लैंड एकमात्र देश था. यही कारण था कि क्रिकेट इतिहास के पहले तीन विश्व कप इंग्लैंड में आयोजित किये गये थे.पहला क्रिकेट विश्व कप 1975 में इंग्लैंड में खेला गया था.

विश्व का चौथा विश्व कप 1987 में पहली बार इंग्लैंड के बाहर किसी देश में खेला गया था और इस विश्व कप की मेजबानी पाकिस्तान और भारत ने की थी. सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि इस विश्व कप का नाम ICC नहीं बल्कि रिलायंस कप रखा गया था, क्योंकि इसे प्रमुख भारतीय व्यापारियों धीरूभाई अंबानी और अनिल अंबानी द्वारा प्रायोजित किया गया था.

1987 में, धीरूभाई अंबानी और अनिल अंबानी ने ऑस्ट्रेलियाई कप्तान को विश्व कप ट्रॉफी प्रदान की.इंडिया टुडे की एक रिपोर्ट के मुताबिक, रिलायंस कंपनी ने 1987 वर्ल्ड कप के राइट्स 4.8 करोड़ रुपये में खरीदे थे. इसके अलावा हर टीम के कप्तान को प्रमोशन के लिए 1 लाख रुपये भी दिए गए.

प्रारंभ में, विश्व कप का नाम उनके प्रायोजक के नाम पर रखा गया था. यह 1999 तक जारी रहा जब ICC ने अपनी स्वयं की विश्व कप ट्रॉफी डिजाइन की.आईसीसी ने 1999 विश्व कप के लिए ट्रॉफी डिजाइन की थी और यह ट्रॉफी आज भी उपयोग में है.

यह वही ट्रॉफी है जिसे ICC हर साल अपने टूर्नामेंट में इस्तेमाल करता है और इसे जीतने वाली टीमों को नहीं दिया जाता है.सोने और चांदी से बनी आईसीसी विश्व कप की इस ट्रॉफी का वजन 11 किलोग्राम है और इसका वित्तीय मूल्य लगभग 30 हजार डॉलर है.



Tazia in Muharram
इतिहास-संस्कृति
  Muharram
इतिहास-संस्कृति
Battle of Karbala
इतिहास-संस्कृति