‘ खानकाही चाय ’ पीने उमड़ पड़ते हैं श्रद्धालु, 200 साल पुरानी परंपरा