शाहनवाज और मुस्लिम बुद्धिजीवियों का बयान-कुरान के साथ हर धार्मिक ग्रंथ का करते हैं सम्मान