भारत का पहला ओपन-सोर्स सैटेलाइट 'इनक्यूब' इस महीने लॉन्च किया जाएगा, जम्मू के 12वीं कक्षा के छात्र ने किया विकसित

Story by  ओनिका माहेश्वरी | Published by  onikamaheshwari • 1 Months ago
भारत का पहला ओपन-सोर्स सैटेलाइट 'इनक्यूब' इस महीने लॉन्च किया जाएगा, जम्मू के 12वीं कक्षा के छात्र ने किया विकसित
आवाज द वॉयस/ नई दिल्ली 
 
बीएसएफ सीनियर सेकेंडरी स्कूल जम्मू के 12वीं कक्षा के छात्र ओंकार बत्रा ने एक और उपलब्धि हासिल की है, क्योंकि भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी-इसरो इस महीने उनके द्वारा विकसित देश का पहला ओपन-सोर्स उपग्रह, "इनक्यूब" लॉन्च करेगा.

पैराडॉक्स सोनिक स्पेस रिसर्च एजेंसी के बैनर तले तैयार सैटेलाइट इस महीने इसरो की मदद से लॉन्च होने जा रहा है. इस प्रोजेक्ट के बारे में बात करते हुए ओंकार बत्रा ने कहा कि इसका वजन एक किलोग्राम है और इसे नैनो टेक्नोलॉजी की मदद से विकसित किया गया है. 
 
उन्होंने कहा कि विदेशों में कई विश्वविद्यालय और शोधकर्ता इस तरह का काम कर रहे हैं, इसलिए उन्होंने इसे भारत की इसरो एजेंसी की मदद से अंतरिक्ष में लॉन्च करने का फैसला किया.
 
भारत में इसकी लॉन्चिंग की लागत 20-80 लाख रुपए है, जबकि विदेशों में यह कीमत करोड़ों में जाती है. उन्होंने कहा कि अंतरिक्ष में प्रक्षेपित हर उपग्रह का एक विशेष मिशन होता है. 
 
इसके भी दो मिशन हैं.एक यह है कि क्या इतना हल्का उपग्रह अंतरिक्ष में काम कर सकता है, दूसरा वहां के तापमान को देखेगा ताकि शोधकर्ताओं को यह जानने में मदद मिल सके कि मौसम की स्थिति कैसी है और अगर वे अंतरिक्ष में उपग्रह लॉन्च करना चाहते हैं तो यह कितना कठिन है. बर्तनों का प्रयोग करना चाहिए.
 
ओंकार बत्रा, जो बत्रा टेक्नोलॉजी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी भी हैं, को भारत के राष्ट्रपति राम नाथ कोंड से कोविड-19 के लिए एक इंटरैक्टिव वेबसाइट बनाने के लिए राष्ट्रीय बाल शक्ति पुरस्कार मिला। दो साल पहले, गवर्नमेंट मेडिकल कॉलेज जम्मू ने डॉक्टरों की मदद से क्वैडकेयर वेबसाइट विकसित की, जिसकी मदद से एक समय में लगभग पचास लोग एक डॉक्टर से संपर्क कर सकते थे.
 
ओंकार बत्रा ने सात साल की उम्र में पहली वेबसाइट बनाई और दुनिया के सबसे कम उम्र के वेबमास्टर (पुरुष) बनकर गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में जगह बनाई और 12 साल की उम्र में अपनी किताब 'व्हेन द टाइम स्टॉप्स' लिखकर दुनिया के सबसे कम उम्र के सैद्धांतिक लेखक बन गए. उन्होंने दो कंपनियां बनाई हैं, एक 2018 में बत्रा टेक्नोलॉजीज और दूसरी 2019 में यूनाइटेड इंडिया पब्लिशिंग.