मौलाना हसरत मोहानीः दरवेशी ओ इन्क़िलाब है मसलक मेरा