यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी पुरस्कार विजेता ईशा को जामिया ने किया सम्मानित

Story by  मलिक असगर हाशमी | Published by  [email protected] • 3 Months ago
Jamia honored European Space Agency award winner Isha
Jamia honored European Space Agency award winner Isha

 

आवाज द वाॅयस नई दिल्ली

जामिया मिल्लिया इस्लामिया के जामिया सीनियर सेकेंडरी स्कूल (जेएसएसएस) ने अपनी पूर्व छात्रा ईशा को सम्मानित करने के लिए एक विशेष कार्यक्रम उड़ान का आयोजन किया.उन्हें यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी (ईएसए) पुरस्कार से सम्मानित किया गया है. यह सम्मान पाने वाली पहली भारतीय महिला हैं.

जेएसएसएस से अपनी स्कूली शिक्षा पूरी करने के बाद, ईशा ने वर्ष 2013 में जामिया के मैकेनिकल इंजीनियरिंग विभाग से बैचलर ऑफ टेक्नोलॉजी (बी.टेक) पूरा किया.
 
ईएसए ने यूरोपीयन इंटर पार्लियामेंटरी स्पेस कॉन्फ्रेंस (ईआईएससी) में स्पेशल मिशन ऑफ जूरी श्रेणी में स्पेस सस्टेनेबिलिटी अवार्ड 2021 (2021) से सम्मानित किया.
jamia
पुरस्कार समारोह फ्रांसीसी पार्लियामेंट में आयोजित किया गया था. यह पुरस्कार अंतरिक्ष के सतत उपयोग को बढ़ावा देने वाले युवा वैज्ञानिकों को दिया जाता है. यह पुरस्कार एक युवा वैज्ञानिक के लिए अपने विचार प्रस्तुत करने का एक मंच भी है.
 
वर्तमान में, ईशा जर्मनी के लीबनिज इंस्टीट्यूट ऑफ कंपोजिट मैटेरियल्स जीएमबीएच के कंपोनेंट डेवलपमेंट विभाग में रिसर्च एसोसिएट के रूप में काम कर रही हैं.
 
जामिया से बी.टेक पूरा करने के बाद, उन्होंने डेढ़ साल तक कंसल्टेंसी सर्विस की और फिर नायिंग टेक्नोलॉजिकल यूनिवर्सिटी और टेक्निकल यूनिवर्सिटी म्यूनिख से एयरोस्पेस में मास्टर डिग्री हासिल करने के लिए सिंगापुर चली गईं. उनके पिता, डॉ. अनिल कुमार, जामिया के हिंदी विभाग में एसोसिएट प्रोफेसर हैं.
 
अपने स्वागत भाषण में जेएसएसएस के प्राचार्य डॉ. मुहम्मद अरशद खान ने ईशा को उनकी महान उपलब्धि के लिए बधाई दी. उम्मीद जताई कि यह विश्वविद्यालय के अन्य छात्रों को बड़े सपने देखने और उन्हें हासिल करने के लिए कड़ी मेहनत करने के लिए प्रेरित करेगा.
 
इसके अलावा, उन्होंने स्कूल के गौरवान्वित पूर्व छात्रों को सम्मानित करने के एक अनूठे कार्यक्रम उड़ान के लक्ष्य और उद्देश्यों पर भी प्रकाश डाला.कार्यक्रम के मुख्य अतिथि आईडीआई डिजाइन प्राइवेट लिमिटेड के संस्थापक और जामिया सीनियर सेकेंडरी स्कूल के पूर्व छात्र इरफान खान थे.
jamia
अपने संबोधन में उन्होंने कहा कि छात्रों को अपनी छुपी प्रतिभा को निखारने के लिए कड़ी मेहनत करनी चाहिए और अपनी रुचि के क्षेत्र को करियर के रूप में चुनना चाहिए.
 
कार्यक्रम के समन्वयक, डॉ. अताउर रहमान, पीजीटी रसायन विज्ञान, जेएसएसएस द्वारा धन्यवाद ज्ञापन के साथ कार्यक्रम का समापन हुआ.