यूएई में बीएपीएस हिंदू मंदिर का उद्घाटन, भारतीय बच्चे मेहमानों के लिए तैयार कर रहे स्टोन गिफ्ट्स

Story by  आवाज़ द वॉयस | Published by  [email protected] • 22 d ago
BAPS Hindu temple in UAE
BAPS Hindu temple in UAE

 

अबू धाबी. यहां 100 से अधिक भारतीय स्कूली बच्चे ‘छोटे खजाने’ को चित्रित करने में व्यस्त हैं, जिन्हें बुधवार को संयुक्त अरब अमीरात की राजधानी में पहले पत्थर वाले हिंदू मंदिर के उद्घाटन में शामिल होने वाले मेहमानों को स्मृतियों के रूप में उपहार में दिया जाएगा.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अबू धाबी में बोचासनवासी श्री अक्षर पुरूषोत्तम स्वामीनारायण संस्था (बीएपीएस) हिंदू मंदिर का उद्घाटन करेंगे, जो संयुक्त अरब अमीरात में पहला पारंपरिक हिंदू मंदिर है.

बच्चे तीन महीने से हर रविवार को मंदिर स्थल पर ‘पत्थर सेवा’ की पेशकश कर रहे हैं और अब ‘छोटे खजाने’ कहे जाने वाले उपहारों को अंतिम रूप दे रहे हैं. 12 वर्षीय तिथि पटेल के लिए, पत्थर सेवा एक सप्ताहांत गतिविधि है, जिसका वह अपने दोस्त के साथ आनंद लेती है.

उन्होंने बतायाय, “हमने मंदिर स्थल पर बचे हुए पत्थर और छोटी चट्टानें एकत्र कीं. फिर हमने उन्हें धोया और पॉलिश किया, उसके बाद प्राइमर की एक परत लगाई और फिर पेंट किया. प्रत्येक चट्टान पर एक तरफ एक प्रेरक उद्धरण है और दूसरी तरफ मंदिर के किसी हिस्से को चित्रित किया गया है.”

8 वर्षीय रेवा करिया, जिन्होंने इस रविवार को पत्थरों को उपहार बक्सों में पैक करते हुए बिताया, ने कहा कि उन्होंने उपहार का नाम ‘छोटा खजाना’ रखा है क्योंकि बच्चे उन्हें अपने छोटे हाथों से बना रहे हैं.

उन्होंने कहा, ‘‘यह पत्थर मेहमानों को भव्य मंदिर की उनकी पहली यात्रा की याद दिलाएगा. मेरे लिए, यह टीम वर्क, दोस्तों के साथ साप्ताहिक सैर और एक रचनात्मक गतिविधि का अनुभव रहा है. मैं यहां अपने माता-पिता के साथ आती हूं और वे मंदिर के कुछ हिस्सों में अपनी सेवा भी देते हैं.’’

11 वर्षीय अर्णव ठक्कर ने कहा कि पत्थरों पर चित्रित किए जा रहे डिजाइन पुष्टि के प्रतिबिंब हैं और शांति, प्रेम और सद्भाव का प्रतिनिधित्व करते हैं. उन्होंने कहा, ‘‘उन्हें बाद में वार्निश किया जाता है ताकि वे मंदिर के रूप में कई वर्षों तक टिक सकें.’’ ठक्कर ने कहा कि वे इस गतिविधि को कुछ महीनों तक जारी रखेंगे, ताकि जब मंदिर जनता के लिए खोला जाए, तो शुरुआती महीनों में आगंतुकों को उपहार मिल सके.

दुबई-अबू धाबी शेख जायद राजमार्ग पर अल रहबा के पास, अबू मुरीखा में स्थित बीएपीएस हिंदू मंदिर, अबू धाबी में लगभग 27 एकड़ भूमि पर बना है और संरचना के लिए काम 2019 से चल रहा है. मंदिर के लिए संयुक्त अरब अमीरात सरकार द्वारा दान दिया गया था. संयुक्त अरब अमीरात में तीन अन्य हिंदू मंदिर हैं, जो दुबई में स्थित हैं. पत्थर की वास्तुकला के साथ एक बड़े क्षेत्र में फैला बीएपीएस मंदिर खाड़ी क्षेत्र में सबसे बड़ा होगा.

प्रधानमंत्री मोदी मंगलवार से संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) की दो दिवसीय यात्रा करेंगे, इस दौरान वह 14 फरवरी को भव्य मंदिर का उद्घाटन करेंगे. अपनी यात्रा के दौरान मोदी अबू धाबी के जायद स्पोर्ट्स सिटी में भारतीय समुदाय को संबोधित करेंगे. संयुक्त अरब अमीरात में कम से कम 35 लाख भारतीय हैं, जो खाड़ी में भारतीय कार्यबल का हिस्सा हैं.

मंदिर के अग्रभाग पर बलुआ पत्थर की पृष्ठभूमि पर उत्कृष्ट संगमरमर की नक्काशी है, जिसे राजस्थान और गुजरात के कुशल कारीगरों द्वारा पत्थर के 25,000 से अधिक टुकड़ों से तैयार किया गया है. मंदिर के लिए बड़ी संख्या में गुलाबी बलुआ पत्थर उत्तरी राजस्थान से अबू धाबी ले जाया गया था.

मंदिर के अधिकारियों के अनुसार, आंतरिक भाग के निर्माण में 40,000 क्यूबिक फीट संगमरमर का उपयोग किया गया है.

 

ये भी पढ़ें :  मोहम्मद अली : कभी खुद ट्रेनर थे आज विदेशों में देते हैं ट्रेनिंग