गीतांजलि श्री के ‘रेत की समाधि’ को हिंदी उपन्यास के लिए पहला अंतरराष्ट्रीय बुकर पुरस्कार