जमीयत उलेमा-ए-हिंद सद्भावना कार्यक्रमः देश बचाने को होगा संयुक्त आंदोलन, मीडिया की भूमिका की आलोचना