लाल चौक पर आतंकियों ने वीरेंद्र पासवान को नहीं, परिवार के सपने को मार डाला