‘पश्चिम’ ने पहले भारत को लूटा, अब रूस को निशाना बना रहे हैंः पुतिन

Story by  राकेश चौरासिया | Published by  [email protected] • 4 Months ago
‘पश्चिम’ ने पहले भारत को लूटा, अब रूस को निशाना बना रहे हैंः पुतिन

मॉस्को. पश्चिमी देशों पर भू-राजनीतिक लाभ के लिए किसी भी देश में रंग क्रांति को भड़काने का आरोप लगाते हुए रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने शुक्रवार को कहा कि पश्चिम ने भारत जैसे देशों को “सच्चाई के मूल्यों के विपरीत” लूटा है.

पुतिन ने नए संघर्षों को भड़काने के लिए पश्चिम की निंदा करते हुए कहा, ‘‘पश्चिम ... ने मध्य युग में अपनी औपनिवेशिक नीति वापस शुरू की और फिर दास व्यापार, अमेरिका में रेड इंडियन के नरसंहार, भारत की लूट, अफ्रीका की लूट, चीन के खिलाफ इंग्लैंड और फ्रांस के युद्धों का संचालन किया ... उन्होंने जो किया, वह पूरे विश्व को ड्रग्स पर झुका रहा था, जानबूझकर पूरे जातीय समूहों को खत्म कर रहा था.’’

पुतिन ने सेंट जॉर्ज हॉल में क्रेमलिन समारोह को संबोधित कर रहे थे, जहां उन्होंने चार क्षेत्रों डोनेट्स्क, लुहान्स्क, खेरसॉन और जापोरिजिया के कब्जे की घोषणा की. उन्होंने कहा, ‘‘भूमि और संसाधनों की खातिर, उन्होंने जानवरों की तरह लोगों का शिकार किया. यह मनुष्य की प्रकृति, सच्चाई, स्वतंत्रता और न्याय के विपरीत है.’’

पुतिन ने कहा कि ‘पश्चिम’ किसी भी देश में क्रांति को भड़काने के लिए तैयार है. उन्होंने कहा, ‘‘उनके लक्ष्यों के बाद, हमारे भू-राजनीतिक विरोधियों - हमारे विरोधियों, जैसा कि हमने उन्हें हाल ही में कहा था - किसी को भी, किसी भी देश को आग की कतार में डालने के लिए तैयार हैं, इसे संकट के उपरिकेंद्र में बदलने के लिए, एक ‘रंग क्रांति’ को भड़काने के लिए ‘और खूनखराबा करने के लिए.’’

उन्होंने कहा, ‘‘हमने यह सब एक से अधिक अवसरों पर देखा है. हम यह भी जानते हैं कि पश्चिम सीआईएस (स्वतंत्र राज्यों के राष्ट्रमंडल) क्षेत्र में नए संघर्षों को भड़काने के लिए परिदृश्यों पर काम करता है. आपको इसकी आवश्यकता है लेकिन देखें कि रूस और यूक्रेन के बीच अब क्या हो रहा है, कुछ अन्य सीआईएस देशों की सीमाओं पर क्या हो रहा है.’’

पश्चिम पर एक चौतरफा हमले में, समारोह में पुतिन ने औपचारिक रूप से चार क्षेत्रों डोनेट्स्क, लुहान्स्क, खेरसॉन और जापोरिजिया के विलय की घोषणा की और दावा किया कि ‘‘यह लाखों लोगों की इच्छा है.’’ उन्होंने पश्चिम पर ‘शैतान’ के रूप में भी आलोचना की और पारंपरिक रूसी मूल्यों की प्रशंसा की.

‘‘क्या हम वास्तव में अपने स्कूलों में, प्राथमिक कक्षाओं से चाहते हैं कि बच्चों पर विकृतियां थोपी गई हैं, जो गिरावट और विलुप्त होने की ओर ले जाती हैं? कि उन्हें सिखाया गया था कि एक पुरुष और एक महिला के अलावा कुछ अन्य लिंग भी थे और उन्हें सेक्स-चेंज ऑपरेशन की पेशकश की गई थी? क्या हम वाकई अपने देश के लिए, अपने बच्चों के लिए यह चाहते हैं? यह सब हमारे लिए अस्वीकार्य है, हमारा अपना, अलग भविष्य है.’’

‘‘रूस के चार नए क्षेत्र हैं.’’ पुतिन ने क्रेमलिन समारोह में सेंट जॉर्ज हॉल में यूक्रेनी क्षेत्रों के कब्जे की घोषणा करते हुए एक लंबे भाषण में कहा. अल जजीरा ने बताया कि भाषण यूक्रेन और उसके पश्चिमी सहयोगियों के बारे में अत्यधिक आलोचनात्मक बयानबाजी से भरा था. पुतिन ने कहा कि चार संलग्न क्षेत्रों के निवासी अब रूस के ‘हमेशा के लिए नागरिक’ होंगे.

इस विलय द्वारा सोवियत संघ के पुनरुद्धार की मांग से इनकार करते हुए, पुतिन ने पश्चिमी राज्यों पर आरोप लगाया, जिन्होंने यूक्रेन पर अपने आक्रमण पर मास्को पर व्यापक प्रतिबंध लगाए हैं. इसके अलावा, एक कड़े बयान में, पुतिन ने यह भी कहा कि रूस अब ‘अपने निपटान में सभी साधनों के साथ’ अपने नए क्षेत्र की रक्षा करेगा.

अल जजीरा की रिपोर्ट के अनुसार, जनमत संग्रह के साथ आगे बढ़ने और क्षेत्र की घोषणा की घोषणा करने के अपने फैसले का बचाव करते हुए, रूसी राष्ट्रपति ने तर्क दिया कि रूस में शामिल होने के लिए डोनेट्स्क, लुहान्स्क, खेरसॉन और जापोरिजिया में लोगों का ष्अभिन्न अधिकारष् था.

आगे बोलते हुए, पुतिन ने दावा किया कि पूर्वी यूक्रेन में डोनेट्स्क और लुहान्स्क से बने लोग - ‘कीव शासन द्वारा किए गए अमानवीय आतंकवादी हमलों के शिकार’ थे. रूस के एक बड़े कदम में, राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने यूक्रेनी क्षेत्रों जापोरिज्जिया और खेरसॉन की तथाकथित ‘स्वतंत्रता’ को मान्यता देने वाले एक डिक्री पर हस्ताक्षर किए थे.

इसके अलावा, संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद शुक्रवार को एक प्रस्ताव पर मतदान करने के लिए तैयार है, जो रूस के नियंत्रण के तहत चार क्षेत्रों में अपने जनमत संग्रह के लिए रूस की निंदा करना चाहता है. सीएनएन ने बताया कि अमेरिका द्वारा प्रायोजित प्रस्ताव सभी देशों से चार क्षेत्रों की स्थिति में बदलाव को मान्यता नहीं देने का आह्वान करेगा. प्रस्ताव, जिसे अल्बानिया का भी समर्थन प्राप्त है, यूक्रेन की संप्रभुता और क्षेत्रीय अखंडता के लिए संयुक्त राष्ट्र की प्रतिबद्धता की पुष्टि करेगा.

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने कहा कि किसी अन्य राज्य द्वारा किसी राज्य के क्षेत्र का ‘धमकी या बल प्रयोग’ के परिणामस्वरूप कोई भी कब्जा संयुक्त राष्ट्र चार्टर और अंतरराष्ट्रीय कानून का उल्लंघन है. इसके अलावा, मास्को द्वारा जब्त किए गए यूक्रेनी क्षेत्रों और अलगाववादी क्षेत्रों की स्वतंत्रता की घोषणा के बाद अमेरिका ने रूस पर नए प्रतिबंध लगाए हैं.