प्रो. गुलाम मुहम्मद शेख की कला में झाँकते कबीर और गांधी का संदेश