जब श्री शारदा पीठ के शंकराचार्य ने किया था फतवे का समर्थन और प्रचार