मुग़लकाल में भी होता था दिवाली पर सबरंग माहौल