आंदोलनकारी किसानों ने तिरपाल खोले, गठरियां बांधी और घरों को किया प्रस्थान