जब नए कपड़ों से ज्यादा कफन बिके, तो हम कैसे खुशियां मनाएंः अजमेर दरगाह