व्यापक और संतुलित था मोहन भागवत का जनसंख्या पर विजयदशमी संबोधनः एस.वाई. कुरैशी