पांच साल में 19.5 फीसद मुस्लिम सिविल सर्विसेज में चुने गए